Tuesday, September 16, 2008

श्यामलाल यादव को प्रतिष्ठित पुरस्कार






दिल्ली और कोलकाता से छपने वाले अंग्रेजी अखबार स्टेट्समैन के प्रतिष्ठित ग्रामीण पत्रकारिता को पाने वालों की सूची में अपने श्यामलाल यादव का नाम भी शरीक हो गया है। श्यामलाल यादव पिछले पांच साल से इंडिया टुडे में हैं। विशेष संवाददाता श्यामलाल को ये पुरस्कार 2007 में हरियाणा और उत्तर प्रदेश में आम आदमी से जुड़ी उनकी कुछ खबरों के लिये दिया गया है। श्यामलाल यादव इंडिया टुडे से पहले कुछ दिन अमर उजाला के दिल्ली ब्यूरो में रह चुके हैं। इससे पहले वो जनसत्ता में रहे। आजकल सूचना के अधिकार का इस्तेमाल करके वो सरकार से ऐसी ऐसी जानकारी निकलवा ले रहे हैं जिनके बारे में सुनकर आम पाठक भौंचक रह जाता है। मंत्रियों और अफसरों की विदेश यात्राओं पर आरटीआई के ज़रिये उन्होने जानकारी निकलवाई और लोगों को बताया कि उनके टैक्स का कितना पैसा ये लोग बेदर्दी से उड़ा रहे हैं। हमारे साथ आप भी श्यामलाल यादव के मंगलमय और उज्ज्‍वल भविष्य की कामना कीजिये।


10 comments:

Udan Tashtari September 16, 2008 at 7:30 PM  

श्यामलाल यादव के मंगलमय और उज्ज्‍वल भविष्य की कामना.

Manvinder September 16, 2008 at 7:33 PM  

shayam lal ko puraskaa ke liya meri badhaai

मैथिली गुप्त September 16, 2008 at 8:07 PM  

श्यामलाल को बधाई
बहुत अच्छा लगा ये जानकर

निरन्तर - महेंद्र मिश्रा September 16, 2008 at 8:48 PM  

श्यामलाल को बधाई उज्ज्‍वल भविष्य की कामना.

शैलेश भारतवासी September 16, 2008 at 9:05 PM  

श्यामलाल जी को इंडिया टुडे के मार्फत तो हम जानते थे। इनको यह पुरस्कार मिला, बहुत-बहुत बधाई।

vijay gaur/विजय गौड़ September 16, 2008 at 9:11 PM  

बधाई एवं शुभकामनाऎं।

अबरार अहमद September 16, 2008 at 9:21 PM  

श्यामलाल जी को ढेरों बधाई। साथ ही आगे के लिए शुभकामनाएं।

Anonymous,  September 17, 2008 at 12:45 AM  

अभी-अभी खबर मिली है कि श्यामलाल जी को पहला पुरस्कार मिला है। फोटो भी सुबह के अखबारों में छपने वाली है। एक बार फिर बधाई।

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन September 17, 2008 at 5:18 PM  

श्यामलाल यादव जी को ढेरों बधाई एवं शुभकामनाऎं!

जो लिखा

पहले पेट पूजा.. फिर काम दूजा


फोटो : दीप चन्द्र तिवारी

तकनीकी सहयोग- शैलेश भारतवासी

ऊपर वापिस लौटें