Monday, July 27, 2009

देश ने क्या सीखा कारगिल से

छब्बीस जुलाई को देश ने कारगिल जंग का दसवां विजय दिवस मनाया. 15 मई 1999 में शुरू हुई लड़ाई 26 जुलाई को खत्म हुई थी। इसमें भारत के 533 जवान शहीद हुए तो पाकिस्तान को चार हजार जवानों से हाथ धोना पड़ा। यह संयोग है या सोची समझी रणनीति, समझना मुश्किल है लेकिन कारगिल के षड़यंत्रकारी, पाकिस्तान के तत्कालीन सेना प्रमुख जनरल परवेज मुशर्रफ ने हाल में दिए एक इंटरव्यू में बेशर्मी के साथ स्वीकार किया कि कारगिल की घुसपैठ में पाकिस्तानी सेना शामिल थी। जिस समय युद्ध हुआ, उस समय और बाद में भी पाकिस्तानी हकूमत यह दावा करती रही कि कारगिल में जेहादियों ने घुसपैठ की थी, न कि उसकी सेना ने। मुशर्रफ ने यह भी कहा है कि यदि कारगिल में घुसपैठ के बाद युद्ध न होता तो भारत कश्मीर मसले पर बातचीत को तैयार नहीं होता। बकौल मुशर्रफ, वे कश्मीर मसले का अंतरराष्ट्रीयकरण करना चाहते थे। मुशर्रफ ने पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को अंधेरे में रखकर इस कार्रवाई को अंजाम दिया। इसके कुछ ही समय पूर्व भारत के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी बस से लाहौर गए थे। वाजपेयी और नवाज शरीफ दोनों देशों के बीच आपसी सहयोग व समझबूझ की नई गाथा लिखने की तैयारी में थे। वहां की सेना को यह गवारा नहीं था। मुशर्रफ के बयान से साफ है कि पाकिस्तानी सेना और आईएसआई भारत विरोधी तत्वों, आतंकवादियों, कथित जेहादियों और घुसपैठियों को न केवल संरक्षण देती रही है, बल्कि षड़यंत्र भी रचती रही है। भारत-पाकिस्तान के बीच अब तक चार युद्ध हो चुके हैं। चारों में पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ी। वहां की सरकार और सेना जानती है कि वह भारतीय सेना से आमने-सामने की लड़ाई में कहीं नहीं टिक सकती। यही कारण है कि अब उसने छद्म युद्ध की साजिश को अंजाम देना शुरू कर दिया है। यह समझने में भी भारतीय निजाम ने कई साल जाया कर दिए।
कारगिल युद्ध के दस साल बीत जाने के बाद इसके विश्लेषण किए जा रहे हैं कि भारत ने कारगिल से क्या सबक सीखा है? कई सीख ली भी है कि नहीं? ली होती तो समुद्र के रास्ते पाकिस्तान के दस प्रशिक्षित आतंकवादी पिछले साल छब्बीस नवम्बर को मुंबई में घुसकर इतनी जघन्य वारदात को अंजाम नहीं दे पाते। इस घटना से तो यही लगता है कि भारतीय निजाम ने कारगिल से कोई सबक नहीं सीखा है। तब कारगिल में घुसपैठ हुई थी। आज नेपाल, बांग्लादेश की सीमाओं से बेखौफ घुसपैठ हो रही है। मुंबई पर समुद्री रास्ते से अटैक हुआ। कारगिल में हमला रोकने और घुसपैठ की जानकारी समय पर नहीं मिल पाने की वजह खुफिया तंत्र की विफलता को माना गया। सवाल है कि क्या उसके बाद खुफिया तंत्र को चुस्त-दुरूस्त करने के गंभीर प्रयास हुए? हर बजट में रक्षा बजट में बढोत्तरी होती जा रही है लेकिन क्या हमारी सेनाएं और खुफिया तंत्र देश की सरहदों को महफूज रखने में सफल हो पा रहे हैं। अफसोस की बात तो यह है कि हमारा निजाम इस तरह की घटनाओं से कोई सबक नहीं लेता।
कारगिल में घुसपैठ को रोकने में विफल रहने के कारणों की जांच के लिए केन्द्र सरकार ने एक जांच कमेटी बनाई थी। के सुब्रहण्यम इसके अध्यक्ष थे और वरिष्ठ पत्नकार वीजी वर्गीज के अलावा लेफ्टिनेंट जनरल के के हजारी और सतीश चंद्र सदस्य। तथ्य सामने थे इसलिए निष्कर्ष निकालने में कतई देरी नहीं हुई। समय पर कारगिल समीक्षा समिति की रिपोर्ट सौप दी गई, लेकिन इसे कभी सार्वजनिक नहीं किया गया। कुल 9 हजार दस्तावेज कमेटी को दिए गए थे और जो सवाल पूछे गए उनके जवाब भी मिले थे। इसके 2200 पन्नों में सारे दस्तावेज और भारत की ओर से हुई गलतियों की भी खुल कर जानकारी दी गई थी। कमेटी ने उन सारे हालातों पर खुल कर विचार किया और अपने निष्कर्ष रखे जिससे कारगिल जैसे हालात दोबारा नहीं पैदा हो सके। यह आश्चर्य का विषय है कि सरकार ने इसके निष्कर्षों को संसद के सामने सार्वजनिक नहीं किया। देश को यह जानने का हक है कि कारगिल क्यों हुआ? रक्षा विशेषज्ञ कारगिल पर खुलकर अपनी राय जाहिर करते रहे हैं। अधिकांश का यही मत है कि हमारा खुफिया तंत्र खतरे को भांपने में पूरी तरह नाकाम रहा। भारत और पाकिस्तान के बीच दुनिया के सबसे उंचे रणक्षेत्न में हुए कारगिल युद्ध के बारे में कई रक्षा विशेषज्ञों का मानना है कि यदि हमने इसके सबक को गंभीरता से लिया होता तो मुंबई पर गत वर्ष 26 नवंबर को हुए हमले जैसे हादसे नहीं हुए होते और रक्षा मामलों में हमारी सोच ज्यादा परिपक्व होती।
रक्षा विश्लेषक और नेशनल मैरीटाइम फाउंडेशन के निदेशक सी उदय भास्कर का कहना है कि यह युद्ध दो परमाणु शक्ति संपन्न देशों के बीच हुआ। यह युद्ध चूंकि मई 1998 में पोखरण परमाणु विस्फोट के बाद हुआ था, लिहाजा पूरी दुनिया की निगाहें इस पर टिकी थी और भारत ने इसमें स्वयं को एक जिम्मेदार परमाणु शक्ति साबित किया। उन्होंने कहा कि 10 साल बीतने के बाद भी हमने इससे कोई सबक नहीं लिया। इस तरह के युद्ध लड़ने के लिए सेना को जिस तरह के ढांचे की जरूरत है, वह आज तक मुहैया नहीं हो सकी है। भास्कर मानते हैं कि कारगिल युद्ध का एक बहुत बड़ा कारण हमारी खुफिया तंत्न की विफलता था। उनका कहना है कि मुंबई हमला समुद्री कारगिल था।
इंडियन डिफेंस रिव्यू पत्निका के संपादक भरत वर्मा के अनुसार कारगिल युद्ध से मुख्य तीन बातें सामने आईं, राजनीतिक नेतत्व द्वारा निर्णय लेने में विलंब, खुफिया तंत्न की नाकामी और रक्षा बलों में तालमेल का अभाव। उन्होंने कहा कि कारगिल के सबक को यदि हमनें गंभीरता से नहीं लिया तो मुंबई जैसे आतंकी हमले लगातार जारी रहेंगे। कारगिल युद्ध के दौरान दुश्मन हमारी जमीन में अंदर तक घुस आया, लेकिन हमारे राजनीतिक नेतृत्व ने पाकिस्तान में स्कार्दू में प्रवेश कर घुसपैठियों की आपूर्ति को रोकने का निर्णय नहीं किया। यदि हमारा नेतृत्व यह फैसला करता तो इसके दूरगामी परिणाम होते। रक्षा विश्लेषक ब्रह्म चेलानी ने कहा कि कारगिल युद्ध का सबसे बड़ा सबक यह है कि पाकिस्तान हर उस स्थिति का फायदा उठाने से पीछे नहीं हटेगा, जहां सुरक्षा या सैन्य तैयारियों में कमी है। उन्होंने कहा कि कारगिल के बाद पाक समर्थित आतंकवादियों के आत्मघाती हमलों में काफी वृद्धि हो गई है।

14 comments:

जगदीश त्रिपाठी July 28, 2009 at 7:11 PM  

कारगिल विजय दिवस के मौके पर कारगिल युद्ध के बाद भी देश की सुरक्षा के प्रति अनदेखी करना अक्षम्य अपराध है। और इसके अपराधी राजग व संप्रग दोनों हैं। आपका विश्लेषण कापी उपादेय है।

ASHA RANI July 29, 2009 at 1:05 PM  

sahi likha hai aapne, sarkar ki karyshaily aur desh ke vatavara se to aaisa hi lagata hai ki kabhi bhi kuchh bhi ghatit ho sakta hai. surksha ke parti ye upeksha ghatak sidh hogi.

MANVINDER BHIMBER July 30, 2009 at 2:57 PM  

desh ke karndhaaron ko desh ki chinta isse se dekhi ja sakti hai ....kisi veergati prapt kerne waale ke priwaar ko ye santwna dene tak nahi jaate hai....achcha vishleshan hai.....der se aane liye maaji chaungi

Anonymous,  March 9, 2010 at 2:43 AM  

I am able to make link exchange with HIGH pr pages on related keywords like [url=http://www.usainstantpayday.com]bad credit loans[/url] and other financial keywords.
My web page is www.usainstantpayday.com

If your page is important contact me.
please only good pages, wih PR>2 and related to financial keywords
Thanks
enlidenny

Anonymous,  March 16, 2010 at 8:32 PM  

It's so easy to choose high quality [url=http://www.euroreplicawatches.com/]replica watches[/url] online: [url=http://www.euroreplicawatches.com/mens-swiss-watches-rolex/]Rolex replica[/url], [url=http://www.euroreplicawatches.com/mens-swiss-watches-breitling/]Breitling replica[/url], Chanel replica or any other watch from the widest variety of models and brands.

Anonymous,  August 14, 2010 at 10:09 AM  

Hello. In a crisis, fell revenue from sales [url=http://rapira-mir.ru]rapira-mir.ru[/url] . Tell my what can be done. Thanks in advance.
Vsem privet. V uslovijah krizisa upal dohod ot prodazh [url=http://rapira-mir.ru]rapira-mir.ru[/url] . Podskazhite chto mozhno sdelat'. Zaranee Spasibo.

Anonymous,  August 30, 2011 at 3:19 PM  

I am here to help get your site off to a great begin. Don't be 1 of these that wished that they had done it far better the very first time, then get around the job, and cost, of beginning more than. Your website displays what you and your company or hobby are all about.

I'm able to supply low-cost, user-friendly, custom developed sites for a extensive range of firms, organizations and teams.It also should not expense a fortune to obtain you began. I am going to help guide you through the procedure and even alert you when i think you may be acquiring in more than your head, or beyond your budget.

Listed below are some hight good quality companies to get a resonable cost:

Front-End Development
Custom web site design
Affordable web site design
E-Commerce website design
Corporate Website Design
Innovative website design
Static Web Design
Website maintenance
Web site re-designs
SEO Services
Logo Design

Please look around the site for further information about the [url=http://www.adrianbotea.com]web designer[/url] services that I am able to offer and to see examples of websites that I have designed

--------------------------------

[url=http://www.adrianbotea.com/seo-services][img]http://www.adrianbotea.com/seo-moz.png[/img][/url]

Anonymous,  December 7, 2012 at 8:50 AM  

We prepare for all kinds of dear property s that happen in a discrepancy of styles,[url=http://www.girldressy.com/top-wedding-dress-sellers/wedding-dresses-under-200.html]wedding dresses under 200[/url]
[url=http://www.girldressy.com/top-wedding-dress-sellers/bridesmaid-dresses-under-100.html]bridesmaid dresses under 100[/url]
[url=http://www.girldressy.com/dresses-for-wedding.html]wedding dresses[/url]
[url=http://www.girldressy.com/homecoming-dresses.html]homecoming dresses[/url]
[url=http://www.girldressy.com/special-occasion-dresses.html]prom dresses[/url]
colors and sizes at wholesale price.All are second-rate with up to date styles wedding apparels including draughtsman wedding adorn, coast coalescence dresses, conjugal gowns, bridesmaids dresses, prom outfits, cream gal dresses & nourisher dresses.Even we can stock the services of loose vastness customization and without plus size Shop affordable stunning compounding dresses minute!satisfaction in avid shopping, dress perfectly destined for the tremendous wedding ceremony with the facilitate of G-marry bridal.


http://www.girldressy.com/dresses-for-wedding.html
http://www.girldressy.com/homecoming-dresses.html
http://www.girldressy.com/special-occasion-dresses.html
http://www.girldressy.com/top-wedding-dress-sellers/wedding-dresses-under-200.html
http://www.girldressy.com/top-wedding-dress-sellers/bridesmaid-dresses-under-100.html

Anonymous,  December 29, 2012 at 2:46 PM  

Just like any other jewelries it can go with any outfit worn by lovely ladies out there. buy ghd The lifeguard playset includes a cool feature that lets girls activate Barbie lifeguard chair so she can really dive! Just press the lever on the chair and Barbie is ready for any rescue! The Barbie I Can Be A Lifeguard Playset AA includes: Barbie Doll Lifeguard chair Dolphin Life preserver Toys recognizes that at any given moment in history, Barbie is a reflection of the times and always culturally relevant. ghd diamond edition To enable Ausdance to offer you an integrated service, a portion of your fees also goes to the Ausdance National Office, which provides services and supports members at a national level.. ghd sale This is where the (foreseeable) problem lies.. ugg slippers young little preteen girls naked It also0 pointsLondon Based high fashion upcoming designers shop more.

Anonymous,  December 30, 2012 at 11:34 PM  

top [url=http://www.c-online-casino.co.uk/]casino online[/url] check the latest [url=http://www.realcazinoz.com/]online casino[/url] unshackled no deposit perk at the best [url=http://www.baywatchcasino.com/]no deposit reward
[/url].

Anonymous,  December 31, 2012 at 6:35 PM  

Users clearly utilize and consume mobile very differently than traditional digital display, therefore it is sound to reason than new data and new measurement is required, which is not found cross channel and certainly not at an RTB, which btw is really used to drive efficiency not valuate data to justify any data premium.. http://www.fitghdhair.com />. north face backpacks It's all about being creative and using your imagination. ghd store But Sarah doesn like to knit from patterns, so it means even more to me that she followed the Knitty instructions for this adorable little fellow, and tackled such advanced techniques as short rows and complicated color changes. ugg "I was very intrigued by motion and flow," Prozzi said.

Anonymous,  January 15, 2013 at 12:53 PM  

The tea should then remain to brew to get a further three or four minutes. With all the love you allow it, being healthy takes little effort phen375 if you need to slim down, you'll must made changes with diet also. I already have counseled my pals to help share the Facebook Twitter Like Tweet. Besides each of the words, I must say which you have to have a lots of movement of burning the calories http://www.phen375factsheet.com and this way you will start feeling hungry again soon after you had a big high carb meal. Our bodies are 70% water and we must drink a good amount of clean, pure water to be healthy and to slim down [url=http://www.phen375factsheet.com]phen375[/url] find a diet plan that you can get used to and most especially one you can live with.

Anonymous,  February 7, 2013 at 5:39 PM  

top [url=http://www.001casino.com/]casino[/url] hinder the latest [url=http://www.realcazinoz.com/]online casino[/url] unshackled no store perk at the foremost [url=http://www.baywatchcasino.com/]online casinos
[/url].

Anonymous,  May 31, 2013 at 11:26 AM  

'The applicant should be employed. Same thing day loans have proved to be really beneficial for paid people. These loans carry a bit higher rate of interest, so consumers are suggested to repay the amount within required time, if you're not the late charge fee makes it more expensive. Unique occasions in life demand urgent attention which you can no way ignore. payday loan , !x7C1+ [url=http://paydayloansez.co.uk/ ]payday loans [/url] w3R,4

तकनीकी सहयोग- शैलेश भारतवासी

ऊपर वापिस लौटें